18.5 C
New York
Wednesday, Sep 27, 2023
DesRag
Uncategorized

रुद्राक्ष उत्सव के निरस्त होने के मामले में उमा भारती की एंट्री

भोपाल (देसराग)। मध्य प्रदेश के सीहोर में पंडित प्रदीप मिश्रा के शिव महापुराण कथा में रुद्राक्ष उत्सव को निरस्त कर दिए जाने के मामले में पहले पूर्व मुख्यमंत्री और मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुखिया कमलनाथ का ट्वीट ओर अब पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती की एंट्री ने इस मामले को तूल दे दिया है। हालांकि उमा भारती ने इसे कानून व्यवस्था का मामला बताया है। उन्होंने कहा है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह मंत्री को इसमें तह तक जाना चाहिए और कार्रवाई करना चाहिए।
उमा भारती आज उज्जैन से लौट रही थीं कि मीडिया से उनका सामना हो गया। सीहोर वाले पंडित प्रदीप मिश्रा की शिव महापुराण कथा के रुद्राक्ष उत्सव को निरस्त किए जाने पर सीधे कोई जवाब नहीं दिया लेकिन इसे कानून व्यवस्था का गंभीर मामला बताया। भारती ने कहा कि प्रशासन को इस कार्यक्रम में आने वाले लोगों का अनुमान था या नहीं और अगर नहीं थी व अनुमान नहीं था तो कार्यक्रम के दिन जब संख्या देखी तो क्या कार्रवाई की जाना थी और क्या कार्रवाई की गई।
सीएम से बात करूंगी
पूर्व मुख्यमंत्री भारती ने इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बात करने का कहा और कहा कि जिला प्रशासन की कार्रवाई को लेकर उन्हें तह तक जाना चाहिए। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के माफी मांगने पर कहा कि उन्हें पहले इस मामले में तह तक जाना चाहिए। इसमें सीएम और गृह मंत्री को जानने का प्रयास करना चाहिए कि रुद्राक्ष उत्सव के आयोजन करने वालों का अनुमान गड़बड़ाया या प्रशासन का और इसके बाद अनुमान से ज्यादा संख्या में भीड़ पहुंचने पर जो कार्रवाई की गई, वह उचित थी कि नहीं।
कमलनाथ ने साधा निशाना
सीहोर के पास चितावलिया हेमा में रुद्राक्ष महोत्सव को प्रशासन द्वारा स्थगित किए जाने को लेकर कांग्रेस ने प्रदेश सरकार पर निशाना साधा है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि सात दिवसीय महाआयोजन को प्रशासन ने दबाव डालकर पहले दिन ही स्थगित करा दिया। प्रशासन व्यवस्था संभालने में असफल साबित हुआ। यही सरकार की हकीकत है, जो खुद को धर्मप्रेमी बताते हैं।पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि सीएम शिवराज का क्षेत्र और शिव ज्ञान की गंगा बहाने वाले शिव महापुराण व रुद्राक्ष महोत्सव का सात दिवसीय महाआयोजन दवाब डालकर पहले दिन ही स्थगित करा दिया गया, क्योंकि प्रशासन लाखों श्रद्धालुओं की व्यवस्था संभालने में असफल साबित हुआ। एक कथा वाचक को आंखों में आंसू भरकर व्यासपीठ से इस सच्चाई को श्रद्धालुओं को बताना पड़े, तो इससे ज्यादा शर्मनाक प्रदेश के लिए कुछ नहीं हो सकता है।
ये है शिवराज सरकार की हकीकत
कमलनाथ ने कहा कि जो खुद को धर्मप्रेमी बताते हैं, यह उनकी सरकार की हकीकत है। बड़ी संख्या में श्रद्धालु नाराज हैं। प्रदेश के इतिहास में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ। वहीं कांग्रेस प्रवक्ता नरेन्द्र सलूजा ने यूक्रेन में फंसे भारतीयों को लेकर भाजपा सरकार पर निशाना साधा है।
सीहोर के चितावलिया में चल रहा आयोजन
भोपाल से करीब 55 किलो मीटर दूर सीहोर के पास चितावलिया हेमा में पं.प्रदीप मिश्रा द्वारा आयोजित रुद्राक्ष महोत्सव और कथा में बड़ी संख्या में श्रद्धालु जुटे। यहां करीब 60 हजार के आने की उम्मीद थी, लेकिन ढाई लाख से ज्यादा लोग यहां पहुंचने से भोपाल-इंदौर हाईवे पर जाम की स्थिति पैदा हो गई। इसके बाद प्रशासन ने आयोजन को निरस्त करा दिया।
विधायक ने भी दी सफाई
उल्लेखनीय है कि रुद्राक्ष महोत्सव को प्रशासन द्वारा स्थगित किए जाने को लेकर सीहोर के विधायक सुदेश राय सामने आए और उन्होंने एक वीडियो जारी कर पूरे मामले पर सफाई दी। उन्होंने कहा कि रुद्राक्ष महोत्सव को स्थगित नहीं किया गया है, बल्कि कुद व्यवस्थाओं के साथ तब तक जारी रहेगा जब तक स्वयं पं.प्रदीप मिश्रा चाहेंगे। विधायक का कहना है कि कुछ शरारती तत्व धार्मिक भावनाओं को आहत कर इस तरह के भ्रम की स्थितियां निर्मित कर रहे हैं। जो सही नहीं है।

Related posts

द ‘कश्मीर फाइल्स’ के डायरेक्टर विवेक अग्निहोत्री का विवादित बयान, भोपालियों को बताया होमोसेक्सुअल

desrag

एमपी में अब त्रिकालदर्शी रामलला सरकार की एंट्री, नरसिंहपुर में लगाएंगे दिव्य दरबार

desrag

desrag

Leave a Comment